घर पशुपालन आधारिक संरचना विकास निधि

    पशुपालन आधारिक संरचना विकास निधि

    पशुपालन आधारिक संरचना विकास निधि

    माननीय प्रधानमंत्री ने केन्‍द्रीय बजट 2018 में पशुपालन आधारिक संरचना विकास निधि (एएचआईडीएफ) की स्‍थापना के लिए लगभग 2450 करोड़ रूपये का प्रावधान किया है। यह एक अद्वितीय पहल है। इस निधि से छोटे तथा गरीब किसान, उद्यमी, विशेष रूप से महिलाएं, स्वआ-सहायता समूह, कमजोर वर्ग अद्यतन आधारिक संरचना संबंधी सुविधाओं का लाभ उठाने और अपने उत्पाहद के लिए बेहतर मेहनताना प्राप्ता करने में समर्थ होंगे। मूल आधारिक संरचना की मांग को पूरा करने हेतु लगभग 2450 करोड़ रूपये के कोष का प्रावधान किया गया है।

    पशुपालन आधारिक संरचना विकास निधि (एएचआईडीएफ) के तहत वित्तीीय सहायता से पशुपालन क्षेत्र में आधारिक संरचना का विकास सुनिश्चित होगा। अधिकांशतया छोटे पशुओं और कुक्कु्ट के संबंध में उद्यमिता को बढ़ावा देने से किसानों की आय को दोगुना करने हेतु माननीय प्रधानमंत्री के विजन को पूरा करने सहायता मिलेगी।

    राष्ट्री य पशुधन मिशन

    पशुधन बीमा के दायरे और कवरेज को 300 जिलों से सभी 716 जिलों तक बढ़ा दिया गया है। पशुधन बीमा की कवरेज को दूध देने वाले केवल दो पशुओं से दूध देने वाले पांच पशुओं/अन्यय पशुओं अथवा 50 छोटे पशुओं तक बढ़ा दिया गया है।
    आरंभ में पशुधन बीमा को 300 जिलों में कार्यान्वित किया गया था जबकि वर्ष 2017-18 में सभी 716 जिलों को पशुधन बीमा के तहत शामिल किया गया है जोकि 135% वृद्धि है।
    • अण्डाे उत्पाछदन में वार्षिक वृद्धि दर 6.3% है।
    • प्रति व्यभक्ति उपलब्धपता बढ़कर प्रतिवर्ष 69 अण्डेव हो गई है।
    वर्ष 2010-14 के दौरान अण्डे़ का उत्पायदन 273.96 बिलियन था जो वर्ष 2014-18 की अवधि के दौरान बढ़कर 342.98 बिलियन हो गया है। अण्डाा उत्पा.दन में 25.19% की वृद्धि हुई है।
    • वर्ष 2017-18 के लिए आंकड़ों की राज्योंै से प्रतीक्षा है। इस प्रकार वर्ष 2017-18 के लिए आंकड़ों को अनुमानित आंकड़ों के रूप में प्रयोग किया गया है।